लॉकडाउन के बीच देश के 4.91 करोड़ किसानों को मोदी सरकार ने राहत दी है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत 4.91 करोड़ किसानों के अकाउंट में 2000-2000 रुपये भेज दिए गए हैं। इस योजना के तहत अब तक 62 हजार करोड़ रुपये से अधिक की सहायता की जा चुकी है। लॉकडाउन के दौरान 24 मार्च से 3 अप्रैल तक डायरेक्ट बेनिफट ट्रांसफर (DBT) के माध्यम से 9826 करोड़ की रकम ट्रांसफर की गई।

र खाते में आए 2000-2000 रुपये Full Video In Hindi 

केंद्रीय कृषि मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत देश में करीब 9 करोड़ किसान रजिस्टर्ड हो चुके हैं। यानी  इतने लोगों को सीधे करीब 18 हजार करोड़ रुपये की मदद मिलेगी। देश में करीब 14.5 करोड़ किसान हैं, लेकिन इस स्कीम के तहत सभी का वेरीफिकेशन नहीं हो पाया है।  पीएम किसान योजना के तहत सालाना 6000 रुपये 2000-2000 रुपये के तीन किस्तों में मिलते हैं।

इस हेल्पलाइन पर ले सकते हैं मदद

अगर आपको इस स्कीम के तहत पैसा न मिले तो अपने लेखपाल, कानूनगो और जिला कृषि अधिकारी से संपर्क करें। वहां से बात न बने तो केंद्रीय कृषि मंत्रालय की ओर से जारी हेल्पलाइन (PM-Kisan Helpline 155261 या 1800115526 (Toll Free) पर संपर्क करें। वहां से भी बात न बने तो मंत्रालय के दूसरे नंबर (011-23381092) पर बात करें।

ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

आप पीएम-किसान पोर्टल पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। यह सुविधा सभी किसानों के लिए शुरू की गई है। दूसरे चरण में आधार वेरीफिकेशन जरूरी है। यदि आपने इस स्कीम का लाभ लेने के लिए रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं और अब तक बैंक अकाउंट में पैसा नहीं आया है तो पीएम किसान पोर्टल पर जाकर अपना आधार, मोबाइल और बैंक खाता नंबर दर्ज करके इसके स्टेटस की जानकारी ले सकते हैं।


पेशेवर, डॉक्टर, इंजीनियर, सीए, वकील, आर्किटेक्ट, एमपी, एमएलए, मंत्री और मेयर भले ही वो किसानी भी करते हों, वो लाभ नहीं ले सकते। इसके अलावा केंद्र या राज्य सरकार में अफसर एवं 10000 रुपये से अधिक पेंशन पाने वाले किसानों को लाभ नहीं मिलेगा। पिछले वित्तीय वर्ष में इनकम टैक्स का भुगतान करने वाले भी योजना के लाभ से वंचित होंगे, जबकि केंद्र और राज्य सरकार के मल्टी टास्किंग स्टाफ/चतुर्थ श्रेणी/समूह डी कर्मचारी इस योजना का फायदा उठा सकते हैं।